A DROP OF OCEAN


जब सगर लेहेराकर किनअरोको अप्नी बाहोम समाजएगि
जब पवन हरा खेतोमे मन्द गतिसे सारी फसलको झुलाने लगेगि
जब गगनोमे चान्द बादलकी पर्देको हtaकर मुस्कुराने लगेगि
जब बारीस होनेकी बाद सारी धर्ती तृप्त होकर खिल्ने लगेगि

उस अनुपम घडीमे सारी दुनियको भुल्कर्
जब मे आप्की शिने मे आउङा
वो कोही साधारण मिलन के लिए मत समझ्ना
जिस महान घडीकी इन्तजार हजारो साल से किया था
आप्की अस्तित्वोमे खो जनेक
वो कोही प्यास बुझाने के लिए मत समझ्ना

अब समय हुइ हे क्योकी सारी धर्ती प्रेम से प्रफुल्लित हे
अब मिल्ना जरुरी हे क्युकी सारी जगत प्रज्ञा से जग उठे हे
ए मत पुछ्ना कि कब होती हे मिलन कि उत्तम समय
जिस समय चित्त प्यार मे डुब्ने लगेगी उसि छन्

सब चिज पाकर भि पाने कि आकान्क्ष्या अन्त नही हुवा
सब सुख मे भि क्यु मन्मे कुच चिज कि कमी था
कब रुकेगी ए चाह कब अन्त होगी ए अहन्कार्
कित्नी दुर हे अनन्द कित्नी देर के बaद अएगी निर्वान्

अब तो कोही चाह ना रहा ना रहा कुच बिचार
सारी दुनिया छोद दि बिलिन होकर यिस अस्तित्वमे

एक सुन्दर बचिकी मुस्कुराहat मे सबार होकर अएगी वो
सुबहकी पवनमे हिमालकी सितलता लेकर अएगी वो
दर्द से भरा आसुवोंकी बुँद मे फिसल्कर आएगी वो
मध्य रात्की सुनसान गगनकी शान्ति लेकर आएगी वो
पहाड्की उपर से बहनवाली नदी कि निस्चल्तामे आएगी वो

हा वो अब जरुर आएगी क्युकी अब सारी भ्रम समाप्त हुवा हे
चेतना कि दिप जग्मगाकर अन्धकारको रोशनी से भर रही हे
यिसी दिप कि प्रकास होकर परमात्मा कि अनुपम आगमन होगि
जैसे सुबहकी सुरज्की पेहेली किरन कि धर्ती मे आगमन होती हे

Advertisements
This entry was posted in Uncategorized. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s